सामुदायिक पुस्तकालय कार्यक्रम

प्रसंग

शहरों में रहने वाले भारतीयों को अक़्सर सामाजिक-आर्थिक वर्ग के मुताबिक़ बच्चों के लिए उपलब्ध असमान अवसरों के बारे में पता होता है लेकिन वे अधिकतर ग्रामीण भारत की दयनीय दशा के बारे में इतना नहीं जानते। जब शिक्षा और औपचारिक शिक्षा के ढाँचों की बात करें तो ये असमानता बहुत ज़्यादा व्यापक और मार करने वाली होती है। एक गाँव के बच्चे के लिए गाँव के विद्यालय के अलावा (जोकि अक़्सर ठीक से नहीं चलते) और कोई अवसर नहीं है कुछ सीखने और पढ़ने का। निजी विद्यालयों के हालात भी कोई अलग नहीं होते बल्कि कभी-कभी तो वहाँ के अध्यापक ठीक से प्रशिक्षित भी नहीं होते। सरकारी हो या निजी, दोनों ही तरह के विद्यालयों में ना तो विज्ञान की प्रयोगशालाएँ होती हैं और ना ही पुस्तकालय। और कहीं-कहीं तो शौचालय और यहाँ तक कि मेज़ और कुर्सियाँ तक नहीं होतीं।

उद्देश्य

हमारा लक्ष्य ‘पढ़ाने’ के बजाय ‘सीखने’ के लिए एक जगह बनाने का है, जिसका केंद्र-बिंदु एक पुस्तकालय होगा और फिर हम उसी के इर्द-गिर्द अन्य गतिविधियाँ आयोजित करना चाहते हैं।:

सामुदायिक पुस्तकालय कार्यक्रम के मुख्य उद्देश्य निम्नानुसार हैं::

  • गाँवों के बच्चों को ज्ञान के ख़ज़ाने को पाने का एक मौक़ा देना और कम उम्र से ही उनमें पढ़ने की आदत विकसित करना।
  • ग्रामीण पुस्तकालयों का एक ऐसा नेट्वर्क तैयार करना जोकि सीखने और अनौपचारिक शिक्षा के केंद्र बन सकें (विशेषकर बच्चों, महिलाओं और युवा लोगों के लिए)।
  • ग्रामीण पुस्तकालयों के नेट्वर्क के ज़रिए स्थानीय ग्रामीण समुदायों को उनके लोकतांत्रिक हक़ों और विकास सम्बंधी मुद्दों के बारे में जागरूक करना और समझ बनाना।

स्थानीय समुदायों के सहयोग से लोकतंत्रशाला ये पुस्तकालय विकसित करेगी जहाँ गाँव के ही प्रशिक्षित लोग इसका संचालन करेंगे। एक बार जब पुस्तकालयों का एक समूह तैयार हो जाएगा तो फिर ‘ग्रामीण पुस्तक मेला’ और ‘ग्रामीण साहित्य मेला’ आदि भी आयोजित करेंगे ताकि ग्रामीण बच्चों और विद्यार्थियों की रचनात्मक प्रतिभा को बाहर ला सकें और इसे प्रोत्साहित कर और निखार सकें। लोकतंत्रशाला में हर साल बच्चों के लिए एक ‘समर कैम्प’ (गर्मी की छुट्टियों में एक शिविर) का आयोजन भी होता है। लोकतंत्रशाला अपने परिसर के आस-पास के इलाक़ों में ग्रामीण फ़िल्म शो भी आयोजित करती रही है, साथ ही हम गाँवों में ‘फ़िल्म क्लब’ भी बनाएँगे जहाँ अहम मुद्दों पर डॉक्युमेंटरीज़ और अन्य फ़िल्में दिखाकर विचार-विमर्श किया जा सके।

आप कैसे मदद कर सकते हैं?

I'd like to attend/participate

Address

Karera – Bhim Rd, Bhim, Rajasthan 305921
Contact No – 097991 06973